January 19, 2022

Top Blog Mania

Latest News Updates around the World

Home » राष्ट्रपति ने अधिकारियों को नियुक्त करने और बर्खास्त करने की प्रधानमंत्री की शक्ति को निलंबित किया क्योंकि इस देश में होने वाले हैं चुनाव

राष्ट्रपति ने अधिकारियों को नियुक्त करने और बर्खास्त करने की प्रधानमंत्री की शक्ति को निलंबित किया क्योंकि इस देश में होने वाले हैं चुनाव

[ad_1]

सोमालिया के राष्ट्रपति मोहम्मद अब्दुल्लाही मोहम्मद ने 16 सितंबर, 2021 को यह घोषणा कर दी कि, उन्होंने प्रधानमंत्री मोहम्मद हुसैन रोबले की अधिकारियों को नियुक्त करने और उन्हें बर्खास्त करने की शक्ति को निलंबित कर दिया है. इसने हॉर्न ऑफ अफ्रीका को अस्थिर करने वाली स्थिति को और बढ़ा दिया है.

सोमालिया के राष्ट्रपति मोहम्मद और प्रधानमंत्री मोहम्मद हुसैन रोबले के बीच यह विवाद, सिर्फ एक  हत्या की जांच को लेकर, सोमालिया में महीनों से तनाव पैदा कर रहा है जो पहले से ही आतंकवादी हमलों और कबीले की प्रतिद्वंद्विता से प्रेरित है.

सोमालिया के राष्ट्रपति ने एक आधिकारिक बयान में यह कहा कि, प्रधानमंत्री ने संविधान का उल्लंघन किया है और यह भी उल्लेख किया है कि, यह निलंबन वर्ष, 2021 में चुनावों के समापन तक चलेगा.

सोमालियाई प्रधानमंत्री ने निलंबन पर क्या कहा?

प्रधानमंत्री मोहम्मद हुसैन रोबले ने राष्ट्रपति द्वारा उनके निलंबन पर टिप्पणी करते हुए यह कहा कि, वे राष्ट्रपति के आदेश का पालन नहीं करेंगे.

प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपति पर प्रधानमंत्री कार्यालय की शक्ति के साथ उनके हस्तक्षेप को सही ठहराने के लिए उद्धृत संवैधानिक प्रावधानों को तोड़-मरोड़ कर पेश करने का आरोप लगाया है.

सोमालियाई राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के बीच संघर्ष

राष्ट्रपति मोहम्मद और प्रधानमंत्री रोबले पहली बार अप्रैल, 2021 में भिड़ गए थे, जब राष्ट्रपति ने अपने 04 साल के कार्यकाल को दो साल के लिए खुद ही बढ़ा दिया था.

इन दोनों के बीच टकराव को तब और बढ़ गया जब राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री को देश में सुरक्षा और विलंबित विधायी और राष्ट्रपति चुनावों के आयोजन का प्रभारी बनाया. उस प्रक्रिया को अक्टूबर, 2021 में समाप्त किया जाना था. हालांकि, इसे पिछले सप्ताह फिर से पीछे धकेल दिया गया.

प्रधानमंत्री रोबले ने राष्ट्रपति पर इकरान तहलील फराह के मामले की प्रभावी जांच में बाधा डालने का आरोप भी लगाया है, जो राष्ट्रीय खुफिया सेवा एजेंसी के एजेंट थीं. वे एजेंसी के साइबर सुरक्षा विभाग में काम करने के दौरान लापता हो गई थी.

फराह के परिवार का यह मानना ​​है कि, उनकी हत्या की गई है, जबकि राष्ट्रीय खुफिया सेवा एजेंसी ने इस मामले पर अपनी कोई टिप्पणी नहीं की है.

[ad_2]

Know the Source